रविवार, 4 अक्तूबर 2015

माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड हरीश रावत जी के नाम खुला-पत्र

सेवा में,                                                                            दिनांक: 5-10-15 
       माननीय हरीश रावत जी, मुख्यमंत्री, उत्तराखंड सरकार

विषय: उत्तराखंड प्रदेश के शहरी, सरकारी एवं गांवों में दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे निरंकुश अपराध, नशाखोरी, छेड़खानी, रैस-ड्राविंग, भ्रष्टाचार और चेन-स्नेचिंग पर आधुनिक संचार तकनीक का स्तमाल कर रोक लगाने के सम्बन्ध में |

माननीय महोदय,
       महोदय प्रदेश में अपराध, भ्रष्टाचार, महिला उत्पीड़न व अनियंत्रित ट्रैफिक जैसी समस्या लगातार बढ़ रही हैं जिस कारण आम जनता घर हो या बाहर कहीं भी सुरक्षित नहीं है| अत: महोदय आप से युद्ध स्तर पर निम्न मांग को जल्द से जल्द पूरा करने का आग्रह है:
·      उत्तराखंड में अपराध, भ्रष्टाचार, महिला उत्पीड़न, अनियंत्रित ट्रैफिक की समस्या चरम पर है, इस पर अंकुश लगाने के लिए राज्य की अंतर्राज्य एवं अंतराष्ट्रीय सीमा, राज्य के सभी थाना, चौकी, ग्रामसभा कार्यालय, छेत्र पंचायत कार्यालय, जिला पंचायत कार्यालय, पटवारी चौकी, डी.एम्. कार्यालय, सी.डी.ओ. कार्यालय, सचिवालय, विधानसभा, सभी सरकारी एवं निजी स्कूल/कालेज, सरकारी कार्यालयों एवं राज्य के सभी शहरों एवं ग्राम के वार्डों के चौक-चौराहों में स्पीड रडार के साथ सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाये जायें और सभी आने जाने वालों पर कंट्रोल रूम बनाकर नजर रखी जाए| किसी भी तरह की अवैध गतिविधि जैसे गलत दिशा में ड्राइव, तेज गति से गाड़ी चलाना, स्टंटबाजी, बिना हेलमेट ड्राइव, मानक से ज्यादा सवारी, छेड़खानी, मारपीट, चेन स्नेचिंग, चोरी, शोषण आदि का संदेह होने पर त्वरित जवाबदेही के साथ कार्यवाही की जाए, किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने से रोका जाए और गलत व्यक्ति का बिना भेद-भाव के चालान काट कर जुर्माना वसूल किया जाए |
·      महोदय सरकारी कर्मचारीयों से काम तब लिया जा सकता है जब वो अपने कार्यस्थल पर मौजूद रहें सड़क तब अच्छी बनेगी जब इंजिनियर साईट पर मौजूद हो, शिक्षक अच्छी शिक्षा तब देंगे जब वो क्लास में मौजूद हों, डाक्टर अच्छा ईलाज तब करेंगे जब वो अस्पताल में अपने कमरे में मौजूद हों मगर जब कर्मचारी अपने कार्यस्थल पर ही मौजूद नहीं होते हैं तो कार्य कैसे होंगे ? महोदय इस समस्या के समाधान के लिए सभी सरकारी कर्मचारियों की प्रतिमाह प्रतिदिन की मोबाईल लोकेशन की सूचना जांच कर वेतन बिल में भरनी सुनिश्चित की जाए और जिस कर्मचारी की  मोबाईल लोकेशन कार्यस्थल पर मौजूद न मिले उसका वेतन काट दिया जाए तभी सरकारी कर्मचारी अपनी जिमेदारी पूर्ण करेंगे|
·      महोदय शुक्रवार हाफ, शनिवार साफ़, रविवार छुट्टी सोमवार माफ़ और जब कार्यलय में आये तो 11 बजे बैठकर 1 बजे लंच और उसके बाद छुट्टी जैसी सरकारी विभागों की कार्यप्रणाली से आप भलीभांति वाकिफ़ हैं इस पर रोक के लिए सभी सरकारी विभागों/स्कूल/कालेज आदि में आने-जाने के समय को दर्ज करने के लिए बायोमेट्रिक हस्ताक्षर उपकरण लगाये जायें और बायोमेट्रिक उपस्थिति के आधार पर ही कर्मचारियों को वेतन दिया जाए |
·      कर्मचारी/अधिकारीयों के अलग से केबिन की प्रथा बंद कर बड़े-बड़े हाल बनाकर एक साथ हाल में कार्य करने के लिए व्यवस्था की जाए, जिससे शोषण, अपराध, रिश्वतखोरी व कामचोरी पर रोक लगे|

महोदय आशा है प्रदेश की सवा करोड़ की आम जनता की सुरक्षा और भ्रष्टाचार मुक्त शासन आपके लिए सर्वोपरि होगा और उपरोक्त विषय को पूरा करने में आप किसी भी प्रकार की कोताही नहीं होने देंगे धन्यवाद |

भार्गव चन्दोला
1, राजराजेश्वरी विहार, लोवर नथनपुर, देहरादून-248001, संपर्क न. 9411155139, email: bhargavachandola@gmail.com

1 टिप्पणी:

  1. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

    उत्तर देंहटाएं